Tuesday, August 28, 2012

Yaadein...यादें

Jis lifafe pe 'yaadein' likha tha..
जिस लिफ़ाफ़े पे 'यादें' लिखा था 
wo kahin rakhkar bhool gaya hoon.
वो कहीं रखकर भूल गया हूँ 
aaj phir wohi lifafa dhoond raha tha..
आज फिर वही लिफाफा ढूँढ रहा था 
kuch aur band lifafe mile..
कुछ और बंद लिफाफे मिले 
ek pe masoomiyat ki mohar lagi thi 
एक पे मासूमियत की मोहर लगी थी 
ek par khushi ka pata likha tha..
एक पर ख़ुशी का पता लिखा था 
khali lifafe the kuch, ek mere bhi naam likha tha..
खाली लिफाफे थे कुछ ,एक मेरे भी नाम लिखा था 
khola to kuch nishan us par nazar aaye..
खोला तो कुछ निशान उस पर नज़र आये 
kuch purana saaman jo kho gaya tha uski ek fehrist likhi thi..
कुछ पुराना सामान जो खो गया था उसकी एक फेहरिस्त लिखी थी 
mere bachpan ke kuch aansu kuch muskan likhi thi..
मेरे बचपन के कुछ आँसू कुछ मुस्कान लिखी थी 
kuch anjaan sapnon ki pehchan bani thi..
कुछ अनजान सपनों की पहचान बनी थी 
thaki si kuch koshishein bhi thi aur
थकी सी कुछ कोशिशें भी थी और 
masoom iraado ki dastaan likhi thi..
मासूम इरादों की दास्ताँ लिखी थी 
kuch gharoundon ki mitti mili
कुछ घरौंदों की मिट्टी  मिली 
pencil se likhi ek chitthi mili..
पेंसिल से लिखी एक चिट्टी मिली 
kacche rangon se jo tasveerein banaya karta tha..
कच्चे रंगों से जो तसवीरें  बनाया करता था 
pani ke gaddhon se lad ke jab ghar aaya karta tha..
पानी के गड्ढों से लड़कर जब घर आया करता था 
kadavi dawai ki ek goli jo bistar ke neeche chupa di thi..
कडवी दवाई की एक गोली जो बिस्तर के नीचे छुपा दी थी 
aur kai kahaniyan jo shayad bachpan me hi bhula di thi..
और कई कहानियां जो शायद बचपन में ही भुला दी थी 
aur tatola to ek adhuri mohabbat bhi mili..
और टटोला तो, एक अधूरी मोहब्बत भी मिली 
jab lagta tha ke alfaaz ko aawaz ki zarurat nahi hoti
जब लगता था के अलफ़ाज़ को आवाज़ की ज़रुरत नहीं होती 
ehsaas ko andaaz ki zarurat nahi hoti..
एहसास को अंदाज़ की ज़रूरत नहीं होती 
jab zindagi har din khubsoorat thi..
जब ज़िन्दगी हर दिन खुबसूरत थी 
jab meri khushi ko kisi aur ki hasi ki zaroorat thi.
जब मेरी ख़ुशी को किसी और की हंसी की ज़रुरत थी 
jab kisi ko dekh ke nigaahein  muskurati thi..
जब किसी को देख के निगाहें मुस्कुराती थी 
jab hawa me uski saanso ki mehak behti thi
जब हवा में उसकी साँसों की महक बहती थी 
aur meri saanse tham jati thi..
और मेरी सांसें थम जाती थी 
jab kisi ki aakhon me apna chehra dhunda karta tha..
जब किसी की आँखों में अपना चेहरा ढूँढा करता था 
jab kisi ki har baat me apna zikr dhunda karta tha..
जब किसी की हर बात में अपना ज़िक्र ढूँढा करता था 
jab koi samne hota tha aur nigahe milne se dar lagta tha..
जब कोई सामने होता था और निगाहें मिलाने से डर  लगता था 
jab wo nazar na aaye to dil usi ko dhunda karta tha.
जब वो नज़र न आये तो दिल उसी को ढूँढा करता था 
jab intezaar ka har pal sadiyo se lamba hota tha..
जब इंतज़ार का हर पल सदियों से लम्बा होता था 
achanak mere dil ne mujhe bula liya..
अचानक मेरे दिल ने मुझे बुला लिया 
kuch dhool se dhake lifafe dafn hi pade reh gaye..
कुछ धूल  से ढके लिफ़ाफ़े दफन ही पड़े रह गए 
kuch aur pulinde lifafo ke ab bhi khulne baki hain..
कुछ और पुलिंदे लिफाफों के अब भी खुलने बाकी हैं 
ek aur baar maine khud ko tasalli di aur kaha..
एक और बार मैंने खुद को तसल्ली दी और कहा 
ye purana saaman tabiyat se kholeinge kabhi..
ये पुराना सामान तबियत से खोलेंगे कभी 
kuch aur din mujhe khud se chup ke  reh lene do abhi..
कुछ और दिन मुझे खुद से छुप के रह  लेने दो अभी .........



2 comments:

  1. Anonymous8/28/2012

    Reena G very well written. Keep on.

    ReplyDelete

Plz add your comment with your name not as "Anonymous"